TRADING NOW

recent
loading...

नवरात्रि 2 दिन :- माँ ब्रह्मचारिणी ने शिव के लिए करी हजारो वर्ष जंगल में पूजा, भूखी-प्यासी रही फिर,,,,?

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी के रूप की पूजा होती है पुरानी कथाओं के अनुसार आपको पता चलेगा कि मां ब्रह्मचारिणी ने देवराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में जन्म लिया था और उनकी मां मैना देवी थी ?


पौराणिक कथा के अनुसार आपने मां ब्रह्मचारिणी के बारे में जाना होगा कि इसने देवराज हिमालय के घर पुत्री के रूप में जन्म लिया था, इनकी मां का नाम मैना देवी था, जब 1 दिन की बात है महर्षि नारद हिमालय के दरबार में आए थे और इन्होंने भगवान शिव के बारे में बताया कि आपकी बेटी को पति के रूप में शिव मिलेंगे लेकिन देवराज हिमालय ने पहले ही संकल्प ले लिया था कि वह अपनी बेटी का विवाह भगवान विष्णु से करेंगे। 


जब माता ब्रह्मचारिणी को यह बात पता चली तो वह भगवान शिव से विवाह करना चाहती थी लेकिन उसके पिता और मां राजी नहीं हुए जिसके बाद मां ब्रह्मचारिणी घर से भागकर जंगल में जाकर तप करने लगई। 



भगवान शिव को पति के रूप में मांगने लगी इसने 1000 सालों तक फल फूल जंगल में खाये जबकि कठोर तपस्या करी इसने धूप और खुले आकाश के नीचे कई सारे कष्ट झेले ,कई सारे व्रत इसने किये। 


3000 सालों तक तो बिल पात्र खाएं इसके अलावा बिना जलके भी सालों तपस्या करती रही, माता ब्रह्मचारिणी इस कठोर तपस्या से भगवान से खुश हो गए और वह प्रकट हो गये और उसने वरदान मांगने के लिए कहा तब इसने मांगा कि आप मुझे पति के रूप में प्राप्त हो और भगवान ने तथास्तु कह दिया और देवी को घर जाने के लिए कह दिया। 


इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद। 
नवरात्रि 2 दिन :- माँ ब्रह्मचारिणी ने शिव के लिए करी हजारो वर्ष जंगल में पूजा, भूखी-प्यासी रही फिर,,,,? Reviewed by Deepak saini on 12:00 pm Rating: 5

No comments:

loading...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.