TRADING NOW

recent
loading...

मात्र 12 साल की उम्र में खत्म हो जाता सहवाग का करियर फिर ताबड़तोड़ बरसाए शतक पर शतक और बना क्रिकेट का बाहुबली !!

आज के लेख में हम आपको वीरेंद्र सहवाग के जन्मदिन के मौके पर कुछ जबरदस्त और जरूरी बातें बताने वाले हैं ?


भारतीय टीम के पूर्व सलामी धुरंधर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग की बात करें तो आज यह अपना 42वां जन्मदिन मना रहे हैं, 20 अक्टूबर 1978 को दिल्ली के नजफगढ़ में सहवाग का जन्म हुआ और यह जाट परिवार से हैं और अपनी आतिशी बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं, सहवाग ने 104 टेस्ट मैच खेले जिसमें 49.53 के औसत से 8586 रन बनाए, इस दौरान इसने 251 वनडे मैचों में भी तगड़ा धमाल मचाया और 8273 रन ठोंके। 


आज उनके करियर में कई जबरदस्त रिकॉर्ड नाम हैं  यहअपनी आतिशी बल्लेबाजी के अलावा अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 38 शतक ठोकने वाले धुरंधर माने जाते हैं, आज हम आपको इनके जन्मदिन के मौके पर कुछ जबरदस्त बातें बताने वाले हैं। 


वीरेंद्र सहवाग को बचपन में ही खतरनाक झटका लगा क्योंकि उनके पिता ने उनके खेलने पर जबरदस्ती प्रतिबंध लगा दिया था जब 12 साल के थे तो एक गेंद से उनका दांत टूट गया जिसके बाद पिता ने क्रिकेट खेलने पर प्रतिबंध लगा दिया लेकिन माँ के जरिए इस ने क्रिकेट खेलना जारी रखा था। 


वीरेंद्र सहवाग ने पहला वनडे 1999 में खेला था जिसमें सिर्फ 1 रन बनाकर आउट हुए और गेंदबाजी में भी उनको जमकर मार पड़ी और 3 ओवर में 35 रन लुटाये थे,  दूसरा मैच खेलने के लिए उनको 1 साल का इंतजार करना पड़ा लेकिन वापसी के बाद पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा और लगातार जबरदस्त प्रदर्शन से तगड़ा बवाल मचा रहे हैं। 


टेस्ट क्रिकेट में इसने साल 2001 में 105 रनों की तूफानी पारी खेली थी इन्होंने सचिन तेंदुलकर के साथ शानदार साझेदारी करी थी, इसके बाद इन्होंने सलामी बल्लेबाज के रूप में अपनी जगह बनाई। 


विरेंद्र सहवाग के नाम आज दो तिहरे शतक दर्ज है इन्होंने पहला तिहरा शतक पाकिस्तान के खिलाफ बनाया था जबकि 2008 में इन्होंने साउथ अफ्रीका के गेंदबाजों की रेल बनाते हुए तिहरा शतक ठनका उन्होंने 278 गेंदों में सबसे तेज तिहरा शतक ठोकने का रिकॉर्ड बना रखा हैं। 


सहवाग के नाम 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे क्रिकेट में दोहरा शतक ठोकने का रिकॉर्ड हैं, सहवाग ने इस मैच में 219 गेंदों की तूफानी पारी खेली वीरेंद्र सहवाग ने टीम इंडिया की तरफ से खेलते हुए 2011 और 2007 के वर्ल्ड कप जीताने में मदद करी थी। 


इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद। 


मात्र 12 साल की उम्र में खत्म हो जाता सहवाग का करियर फिर ताबड़तोड़ बरसाए शतक पर शतक और बना क्रिकेट का बाहुबली !! Reviewed by Deepak saini on 11:46 am Rating: 5

No comments:

loading...

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.